आमस-दरभंगा एक्सप्रेस-वे को बड़ी खबर, जल्द ही निर्माण कार्य पकड़ेगी गति।

बिहार का पहला एक्सप्रेस-वे आमस-दरभंगा को लेकर बड़ी खबर। आमस-दरभंगा एक्सप्रेस-वे मिथिलांचल का गेम चेंजर प्रोजेक्ट हैं, जो कि यहां के विकास में मिल का पत्थर साबित होगा। बताते चलें कि 189 किलोमीटर लंबे आमस-दरभंगा एक्सप्रेस-वे सड़क का निर्माण कार्य 4 चरणों में पूरा किया जाना हैं। वहीं अब इसके निर्माण को लेकर इससे जुड़े दो फेज के निर्माण कार्य के टेंडर की प्रक्रिया भी पूरी कर ली गई है। और अब इसके तीसरे फेज को भी मंजूरी मिल गई है। आमस-दरभंगा एक्सप्रेस-वे दरभंगा को पटना होते हुए दक्षिण बिहार से जोड़ने वाला महत्वपूर्ण प्रोजेक्ट हैं। जहां इसे चार फेज में बनाने की योजना बनाई गई है। चार फेज में बनने वाले आमस-दरभंगा एक्सप्रेस-वे के दो चरण की टेंडर प्रक्रिया पूरी कर ली गई है। जहां टेंडर प्रक्रिया बीड जीतने वाली एजेंसी को टेंडर अवॉर्ड किया जा चुका है। निर्माण संबंधी कुछ औपचारिकता पूरी करने के बाद इस एक्सप्रेस-वे का निर्माण कार्य दो महीने के भीतर शुरू कर दिया जाएगा।

आमस-दरभंगा एक्सप्रेस-वे के तीसरे फेज को मंजूरी

दो फेज के टेंडर की प्रक्रिया पूरी होने के बाद आमस-दरभंगा एक्सप्रेस-वे के तीसरे फेज को भी मंजूरी मिल गई है। तीसरे चरण के तहत समस्तीपुर के कल्याणपुर से होकर दरभंगा में बलभद्रपुर तक, सड़क निर्माण को लेकर 1857 करोड़ रुपए की धनराशि स्वीकृत कर दी गई है। इसकी जानकारी केंद्रीय परिवहन एवं सड़क मंत्री नीतिन गडकरी ने ट्वीट के माध्यम से दी है। केंद्र सरकार की महात्वाकांक्षी भारतमाला परियोजना के तहत आमस-दरभंगा एक्सप्रेस-वे का निर्माण कार्य होना हैं। जहां इसका निर्माण औरंगाबाद के आमस से शुरू होगा, जो पूरी तरह से ग्रीनफील्ड फोरलेन सड़क होगी। यह सड़क गया एयरपोर्ट के समीप से होते हुए जीटी रोड को कनेक्टिविटी प्रदान करेगी। जो गया से जहानाबाद और नालंदा के सीमा से गुजरते हुए पटना के कच्ची दरगाह में मिलेगी। फिर यहां से बिदुपुर के बीच बन रहे छः लेन पुल से चकसिंकदर, महुआ के पूरब से होते हुए यह सड़क ताजपुर जाएगी। वहां से समस्तीपुर के कल्याणपुर से दरभंगा एयरपोर्ट के पास हाइवे से गुजरते हुए जयनगर में यह सड़क समाप्त होगी।

पटना-गया और दरभंगा एयरपोर्ट का सीधा जुड़ाव

आमस-दरभंगा एक्सप्रेस-वे बिहार के छः जिलों से होकर गुजरेगी। जिसमें औरंगाबाद, गया, नालंदा, पटना, समस्तीपुर और दरभंगा शामिल हैं। इस एक्सप्रेस-वे का निर्माण इस तरह किया जा रहा है कि ये उत्तर और दक्षिण के जिलों के बीच सीधी कनेक्टिविटी प्रदान कर सकेगी। आमस-दरभंगा ग्रीनफील्ड एक्सप्रेस-वे बिहार का पहला नॉर्थ साउथ कॉरिडोर होगा, जो झारखंड बॉर्डर से नेपाल बॉर्डर को जोड़ेगा। मगध को मिथिला से जोड़ने वाली आमस-दरभंगा एक्सप्रेस-वे को अब पूरी तरह से मंजूरी मिल गई है। जहां पहले फेज और दूसरे फेज के लिए राशि स्वीकृत कर दी गई थी। वहीं अब भारत सरकार के सड़क परिवहन मंत्रालय ने तीसरे फेज समस्तीपुर के कल्याणपुर से दरभंगा के बलभद्रपुर तक की मंजूरी दी है। आमस-दरभंगा एक्सप्रेस-वे बन जाने से मिथिलांचल और पटना की सीधी कनेक्टिविटी बढ़ेगी। वहीं दरभंगा, पटना और गया एयरपोर्ट का सड़क मार्ग से सीधा जुड़ाव होगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published.