केंद्र ने दी बिहार को बड़ी सौगात, मिथिलांचल में बिहार का पहला सैनिक स्कूल।

बिहार का पहला सैनिक स्कूल होगा मिथिलांचल में। केन्द्र सरकार ने दी बिहार को बड़ी सौगात। पूरी खबर विस्तार से बताते चलें कि रक्षा मंत्रालय ने देशभर में 21 नये सैनिक स्कूल को खोलने की मंजूरी दी हैं। वहीं इन स्कूलों की स्थापना एनजीओ, प्राइवेट स्कूलों और राज्य सरकारों के साझेदारी में होगी। सैनिक स्कूल छठी वर्ग से शुरू की जाएगी।

मई माह से पढ़ाई शुरू

बिहार और झारखंड का विभाजन होने के बाद, इकलौता सैनिक स्कूल झूमरी तिलैया झारखंड में चला गया। जिसके बाद से बिहार में ना तो सैनिक स्कूल और ना ही नेतरहाट विद्यालय हैं। लेकिन अब केन्द्र सरकार ने बिहार में भी सैनिक स्कूल खोलने की मंजूरी प्रदान की हैं। ये स्कूल बिहार के समस्तीपुर में खोला जाएगा। वहीं दूसरी ओर सबसे बड़ी बात ये हैं कि इस स्कूल में मई माह से पढ़ाई भी शुरू की जाएगी।

सरस्वती विद्या मंदिर सैनिक स्कूल में तब्दील

समस्तीपुर के रोसड़ा ब्लॉक में बटहा गांव में स्थित सुंदरी देवी सरस्वती विद्या मंदिर को सैनिक स्कूल में बदला जाएगा। केंद्र ने इस स्कूल को सैनिक स्कूल में तब्दील करने का निर्णय लिया है। बता दें कि सरस्वती विद्या मंदिर स्कूल 12 एकड़ के भूखंड में फैला हुआ है। इस स्कूल की स्थापना वर्ष 1998 में बटहा गांव के रहने वाले स्वर्गीय डॉ रामस्वरूप महतो ने किया था। डॉ रामस्वरूप महतो के बारे में जानकारी देते चले कि पेशे से डॉक्टर थे। जो विदेश में रहते थे, इसके बावजूद भी उन्हें अपने गांव की मिट्टी से काफी लगाव था। जिसकी बदौलत उन्होंने अपनी सारी कमाई विद्यालय की स्थापना में लगा दी।

बिहार के लिए बड़ी उपलब्धि

सरस्वती विद्या मंदिर स्कूल स्थापना के बाद से लगातार उंचाई की ओर अग्रसर रहा। यह विद्यालय 12 एकड़ में फैला हुआ है, जिसमें विशाल भवन, ऑडिटोरियम, छात्र-छात्राओं का रम्य छात्रावास और साथ ही प्रयोगशाला और पुस्तकालय हैं। स्कूल का विशाल परिसर अपना एक अलग ही पहचान बिखेरता है। वर्तमान में इस विद्यालय में लगभग 1250 छात्र-छात्राएं पढ़ते हैं। वहीं दूसरी ओर विद्यालय को सीबीएसई बोर्ड से प्लस-2 की मान्यता मिली हुई है। इस स्कूल का संचालन रामकृष्ण एजुकेशन ट्रस्ट और विद्या भारती बिहार की समिति करती है। केंद्र सरकार ने बिहार को सैनिक स्कूल के रूप में बड़ा तोहफा दिया है, जो मिथिलांचल के साथ-साथ पूरे बिहार के लिए गौरव की बात हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.