दरभंगा में एक सप्ताह के भीतर 3 मर्डर। कानून व्यवस्था सुस्त, अपराधी बेखौफ।

दरभंगा अन्य जिलों की अपेक्षा शांत और आपराधिक गतिविधि से दूर के रूप में माने जाने वाला जिला, आज जिस वजह से सुर्खियों में हैं वो सब जानते हैं। दरभंगा में क्राइम का ग्राफ बढ़ता जा रहा है, जहां आये-दिन कोई ना कोई ऐसी घटनाएं देखने या सुनने को मिल रही है। जैसे पिछले एक सप्ताह में दरभंगा में तीन लोगों की मारकर हत्या कर दी गई। यहां तक कि अपराधी बड़ी आसानी से हत्या कर भाग निकलते हैं।

लोगों में आक्रोश

हाल-फिलहाल में 26 मार्च को सदर थाना क्षेत्र में सर्वेश पासवान नाम के व्यक्ति की गोली मारकर हत्या कर दी गई थी। उसके बाद 28 मार्च को बुजुर्ग चाय दुकानदार सत्तार खां की तेज हथियार से गला रेत कर हत्या कर दी गई। वहीं 30 मार्च को लहेरियासराय के सैदनगर मोहल्ले में निजी कंपनी के कैशियर जटाशंकर चौधरी को दिनदहाड़े गोली मारकर हत्या कर दी गई। बढ़ती अपराध और पुलिस प्रशासन की नाकामी को लेकर आक्रोशित लोगों ने लहेरियासराय टावर को दिन भर जाम करके प्रदर्शन किया, तथा पुलिस प्रशासन के खिलाफ जमकर नारेबाजी की।

कानून व्यवस्था दुरुस्त

दरभंगा में एक सप्ताह में तीन हत्या से पहले भी कई घटनाएं घट चुकी है। 10 फरवरी को जीएम रोड में दिनदहाड़े पेट्रोल छिड़ककर आगजनी कांड, उसके बाद 25 फरवरी को टेंपों ड्राइवर की मब्बी में गोली मारकर हत्या कर फेंक दिया गया था। शांत जिला के रूप में माने जाने वाले दरभंगा भी अब सुरक्षित नहीं रहा। लगातार हो रही आपराधिक मामलों को लेकर लोगों में दहशत है। दरभंगा में कानून व्यवस्था को दुरुस्त करने की जरूरत है जिला प्रशासन को, जिससे अपराध का सिलसिला कम हो सके।

Leave a Reply

Your email address will not be published.