दरभंगा में अपराधी हुए बेलगाम, दिनदहाड़े कैशियर की गोली मारकर हत्या।

दरभंगा का नाम आजकल जिस वजह से सुर्खियों में हैं, वो बढ़ती अपराधिक मामलों को लेकर हैं। जिस तरह दरभंगा में लगातार क्राइम का बोलबाला बढ़ रहा है, उससे लोग अंचभित है। मालूम हो कि फरवरी में शहर के बीचोबीच स्थित जीएम रोड में दिनदहाड़े पेट्रोल छिड़ककर दबंगों ने आग लगाकर दो लोगों की जान ले ली थी। वहीं दूसरी ओर बुधवार को दिनदहाड़े अपराधियों ने कुरियर कंपनी के कैशियर को गोली मारकर हत्या कर दी, और 13 लाख लूटकर भाग निकले।

मौके पर मौत

बुधवार को दरभंगा के लहेरियासराय थाना क्षेत्र के सैदनगर स्थित फ्रेंड्स कॉलोनी में इस वारदात को अपराधियों ने अंजाम दिया। रेडिएंट कंपनी के कैशियर जटाशंकर चौधरी अमेजन कंपनी की शाखा से 13 लाख रुपए वसूल कर बैंक में जमा करने जा रहे थे। लेकिन इसी बीच एक बाइक सवार दो अपराधी उनका पीछा करने लगे। जिसके बाद बाईक रूकवाकर जटाशंकर चौधरी से बैग छीनने का प्रयास करने लगे। कैशियर ने इसका विरोध किया तो अपराधी ने ताबड़तोड़ फायरिंग कर दी, जिससे मौके पर मौत हो गई।

लोगों ने किया रोड जाम

इस घटना को लेकर स्थानीय लोगों का आक्रोश काफी बढ़ गया। लिहाजा रेडिएंट कंपनी के कैशियर जटाशंकर चौधरी का शव सड़क पर रखकर लहेरियासराय टावर को जाम कर दिया गया। यहां तक कि डीएमसीएच से स्ट्रेचर पर ही शव को वहां रख दिया, और प्रशासन के खिलाफ नारेबाजी करने लगे। पुलिस और प्रशासन के खिलाफ लोगों में इतना आक्रोश दिख रहा था कि पुलिस को खदेड़ कर भगाने पर विवश कर रही थी। लोगों के मुताबिक दरभंगा में पुलिस की व्यवस्था बद से भी बद्तर है। नाकेबंदी नहीं है, शहर में घुसने के लिए किसी भी प्रवेश मार्ग पर बैरिकेटिंग या पुलिस बल तैनात नहीं है। जिसकी वजह से अपराधी किसी भी घटना को अंजाम देने के बाद आसानी से भाग निकलते हैं।

पुलिस प्रशासन विफल

लगातार दरभंगा में हो रही अपराधिक मामला पुलिस प्रशासन की लापरवाही का नतीजा है। बेखौफ अपराधी कहीं भी घुस कर किसी भी घटना को अंजाम दे रहे हैं। लोगों ने करीब चार घंटे तक लहेरियासराय टावर को जाम किए रखा। जिससे यातायात व्यवस्था बूरी तरह प्रभावित रही। एसडीपीओ और डीएसपी के काफी समझाने-बुझाने पर लोग माने, और तब जाकर जाम ख़त्म कर दिया गया। वहीं बता दें कि घटनास्थल पर हत्या और लूट के बाद पुलिस ने दो खोखा बरामद किया।

Leave a Reply

Your email address will not be published.