खोज करे
  • DARBHANGA CITY

मिथिला में कोसी नदी बन रहा है देश का सबसे लंबे पुल का निर्माण, सामरिक तौर पर होगी अहम भूमिका।

मधुबनी: कोसी नदी पर SUPAUL जिले के बकौर और MADHUBANI जिले के भेजा के बीच बनने वाले 10.2 किमी लंबे महासेतु का काम शुरू हैं।बताते चलें की नये पुल की आधारशिला जुलाई में मधुबनी के भेजा में कोसी नदी पर रखा गया था। 10.2 किलोमीटर लंबी इस पुल का निर्माण गैमन इंडिया और ट्रांसरेल लाइटिंग कर रही हैं। बताते चलें की नये पुल में 171 पिलर होंगे, इसके साथ ही पुल के लिए 1.5 किलोमीटर एप्रोच रोड तैयार किया जायेगा।


कोसी पर भारत का सबसे लंबा पुल होगा


कोसी नदी पर सुपौल जिले के बकौर और मधुबनी जिले के भेजा के बीच बनने वाले 10.2 किमी लंबे महासेतु को भारत के सबसे लंबा पुल होने का गौरव प्राप्त होगा। बताते चलें की 10.2 किमी लंबी इस परियोजना की लागत 964 करोड़ है, जिसे तीन साल में निर्माण पूरा करने का लक्ष्य निर्धारित किया गया है।


भारत का होगा सबसे लंबा पुल

बताते चलें की भारत का पहला सबसे लंबे पुल का निर्माण भी बिहार में ही हुआ था, जिसके तहत आज से बीस वर्ष पहले पटना में गंगा नदी पर गांधी पुल का निर्माण हुआ था। बाद में पूर्वोत्तर में सुकिया में सबसे लम्बी सड़क पुल बना, जो साढ़े नौ किलोमीटर का था। अब यह रिकार्ड फिर से बिहार के नाम होने जा रहा है, जो की मिथिला में अवस्थित होगा।


सामरिक और पर्यटन की दृष्टि से महत्वपूर्ण


भारतमाला प्रोजेक्ट के तहत बन रही यह सड़क सामरिक दृष्टि से महत्वपूर्ण मानी जा रही हैं। यह चीन से तनाव और नेपाल से बिगड़ते रिश्तों के बीच सामरिक तौर पर अहम भूमिका में होगी, वहीं पर्यटन को लेकर भी इस की अहम भूमिका होगी। यह मधुबनी के उच्चैठ भगवती स्थान से उग्रतारा तक बनेने वाली फोर लेन सड़क को जोड़ेगी। बताते चलें की कोसी नदी पर सुपौल जिले के बकौर और मधुबनी जिले के भेजा के बीच बनने वाले 10.2 किमी लंबे महासेतु के लिए मिट्‌टी की जांच का काम पिछले साल ही पूरा कर लिया गया था, जिसके बाद अब पुल का निर्माण कार्य शुरू कर दिया गया है।

2 व्यूज0 टिप्पणियाँ

हाल ही के पोस्ट्स

सभी देखें