खोज करे
  • DARBHANGA CITY

बिहार में कोरोना कंट्रोल से बाहर, छपरा रिमांड होम में 38 बच्चें निकले संक्रमित।


बिहार में कोरोना से हालात काफी बिगड़ती जा रही है। बताते चलें कि इससे पटना में सबसे ज्यादा स्थिति खराब है। श्मशान घाट में अंतिम संस्कार के लिए लाशों की लंबी लाइनें लगी है। हॉस्पिटल में मरीजों को बेड उपलब्ध नहीं हो पा रहा है, ऑक्सीजन की कमी अलग हो रही है। वहीं प्रतिदिन कोरोना पॉजिटिव की संख्या में बेहताशा इजाफा हो रहा है। बता दें कि छपरा रिमांड होम में 38 बच्चें कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं, इस खबर के सामने आने के बाद पुलिस विभाग में हड़कंप मच गया है।


सदर अस्पताल के आइसोलेशन वार्ड में बच्चे भर्ती


मालूम हो कि पटना में स्थिति इतनी खराब हो गई है कि, हर मुहल्ले में कोरोना मरीज मिल रहे हैं। इक्का-दुक्का नहीं बल्कि एक साथ विस्फोटक संख्या में पॉजिटिव की पुष्टि हो रही है। वहीं सारण के छपरा रिमांड होम में एक साथ इतने संख्या में बच्चों का कोरोना पॉजिटिव पाये जाने से लोग सन्न रह गए हैं। सभी बच्चों को सदर अस्पताल के आइसोलेशन वार्ड में भर्ती कराया गया है, लगातार बच्चों के स्वास्थ्य की मॉनिटरिंग की जा रही है।



दूसरी लहर में हो रहे अधिक संक्रमित


मालूम हो कि कोरोना की दूसरी लहर काफी तेजी से लोगों को अपनी गिरफ्त में ले रही हैं। इसमें पहले नंबर पर बिहार की राजधानी पटना हैं, जहां स्थिति बेकाबू होती जा रही है। हालांकि सरकार ने बिहार में नाईट कर्फ्यू लगा दिया है, परंतु फिर भी इसका कोई खास फर्क नहीं पड़ रहा है। लिहाजा बिहार में भी लॉकडाउन लगाने की अटकलों ने जोर पकड़ लिया है।

175 व्यूज0 टिप्पणियाँ

हाल ही के पोस्ट्स

सभी देखें