खोज करे
  • DARBHANGA CITY

अबकी पंचायत चुनाव में No फर्जीवाड़ा वोट, पकड़े जाने पर सीधे जेल।


बिहार में पंचायत चुनाव को लेकर काफी गहमागहमी चल रही है। गांव-कस्बों में चुनाव लड़ रहे कैंडिडेट मतदाताओं को लुभाने के लिए नये-नये पैंतरा अपनाने में लगे हैं। वहीं बिहार पंचायत चुनाव को लेकर राज्य निर्वाचन आयोग ने मतदान केंद्र पर वोटरों कि बायोमैट्रिक विधि से सत्यापन के संबंध में विस्तृत दिशा-निर्देश जारी किया है। पहले की तरह अब पंचायत चुनाव में फर्जी मतदान नहीं किया जा सकेगा, वहीं अगर कोई फर्जी मतदान करने वाले पकड़े गए तो उनकी खैर नहीं, सीधा ऐसे मतदाता को जेल भेजा जाएगा।


दोबारा पहुंचने पर सिस्टम करेगी अलर्ट



राज्य निर्वाचन आयोग ने फर्जी मतदान को रोकने के लिए प्रत्येक मतदान केंद्र पर बायोमैट्रिक जांच की व्यवस्था की गई है। जिससे एक वोटर द्वारा अपने बुथ के अलावा दूसरे बुथ केंद्र पर दोबारा वोट ना गिरा सके। इसके लिए प्रत्येक बुथ पर एक टेक्निकल स्टाफ बायोमैट्रिक मशीन एवं टैबलेट लेकर तैनात रहेगा। जो वोटर के अंगूठे का निशान, फोटो, इपिक या अन्य पहचान पत्र, मतदाता पर्ची का फोटो लेकर उसे बायोमैट्रिक प्रणाली के डाटाबेस में सुरक्षित करेगा। जिससे अगर कोई वोटर दोबारा वोट गिराने पहुंचता है तो सिस्टम तुरंत उसकी पहचान कर लेग तथा उसे फर्जी मतदाता के रूप में चिह्नित कर अलर्ट भेजेगा।


फर्जी वोटरों पर कसेगी नकेल



आयोग के अनुसार अगर वोटर आधार कार्ड लेकर आते हैं तो फिंगर प्रिंट से आधार पर तत्काल सत्यापन किया जाएगा। वहीं अगर वोटर द्वारा पहले वोट गिराया जा चुका है और वे दुबारा पहुंचते हैं। ऐसी स्थिति में इसकी जानकारी तुरंत मिल जाएगी। इस तरह फर्जी एवं दोबारा वोट गिराने वाले व्यक्तियों पर नकेल कसी जाएगी तथा फर्जी मतदाता पर पंचायतीराज अधिनियम के तहत कानूनी कार्रवाई की जाएगी।

186 व्यूज0 टिप्पणियाँ

हाल ही के पोस्ट्स

सभी देखें