खोज करे
  • DARBHANGA CITY

मुजफ्फरपुर के एक 'Eye अस्पताल' में मोतियाबिंद ऑपरेशन कराने के बाद 60 लोगों के आंखों की छिनी रोशनी।


मुजफ्फरपुर में एक आंख अस्पताल की बड़ी लापरवाही सामने आई है। बता दें कि मुजफ्फरपुर शहर के जूरन छपरा में स्थित Eye Hospital में 60 लोगों का मोतियाबिंद का ऑपरेशन किया गया था। जिसमें 24 लोगों के आंख की रोशनी चली गई है, वहीं इंफेक्शन बढ़ने के बाद 11 लोगों की आंखें निकाली जा चुकी है। मोतियाबिंद ऑपरेशन 22 नवंबर को कैंप लगाकर किया गया था। इसमें मोतियाबिंद का ऑपरेशन सबसे अधिक कराया गया था। ऑपरेशन के एक सप्ताह बाद ही सभी के आंखों में समस्या आने लगी, और ऐसा इंफेक्शन की वजह से हो रहा था। यहां तक की उन लोगों की हालत गंभीर होने लगी तो अपना इलाज दूसरे जगह पर करवाना पड़ा।


मरीजों को छोड़ भागे अस्पताल कर्मी



मरीजों के परिजनों द्वारा किए जा रहे हो-हल्ले और हंगामें के बीच अस्पताल में कोई पदाधिकारी मौजूद नही था। सिविल सर्जन को इसकी जानकारी मिली तब तक अस्पताल में सभी भर्ती मरीज को छोड़कर कर्मी भाग निकले। इसकी सूचना मिलते ही वहां पुलिस बल को भेजा गया, जहां उन्होंने सभी मरीजों और परिजनों को अस्पताल से बाहर निकाला गया। कई गंभीर मरीजों को एंबुलेंस से पटना भेजा गया है। मुजफ्फरपुर के आंख अस्पताल की लापरवाही सामने आने पर उस अस्पताल को सील कर दिया गया है।


दोषी पाए जाने पर कठोर कार्रवाई



अस्पताल की लापरवाही ने लोगों के आंखों की रोशनी छीन ली हैं। उनकी उम्मीद को तोड़ दिया है। कुछेक मरीजों का इंफेक्शन इतना बढ़ गया कि उनके आंख को निकालना पड़ गया है। इस मामले पर सिविल सर्जन डॉ विनय शर्मा ने कहा कि इस ऑपरेशन के बाद लोगों को ये समस्या आई है। मामले की गहन जांच-पड़ताल के लिए तीन डॉक्टरों की टीम बनाई गई है, जो दो दिन के भीतर रिपोर्ट देंगे। जिसमें खामियां पाये जाने पर कठोर कार्रवाई की जाएगी।

305 व्यूज0 टिप्पणियाँ

हाल ही के पोस्ट्स

सभी देखें