खोज करे
  • DARBHANGA CITY

कोरोना के बढ़ते मामले को लेकर होली में घर लौटने वाले का स्टेशन एवं एयरपोर्ट पर होगा कोविड-19 टेस्ट।


देश में कोरोना के मामले में तेजी से उछाल आने लगा है। जिसके मद्देनजर कई राज्यों में लॉकडाउन लगाने की समस्या गहराने लगी है। बता दें कि बिहार में भी कोरोना को लेकर अभी से ही सतर्कता बरती जा रही है। होली बिहार का सबसे बड़ा त्योहार है और इस मौके पर लाखों की संख्या में लोग घर आते हैं।



देश के 6 राज्यों में कोरोना संक्रमण में अचानक आई तेजी के बाद बिहार सरकार भी पूरी तरह से अलर्ट पर है। जहां सभी जिलों में संक्रमित लोगों की पहचान के लिए टेस्टिंग का निर्देश दिया है साथ ही मास्क लगाने और सोशल डिस्टेंसिंग का सख्ती से पालन करने का निर्देश दिया है। वहीं होली में बाहर से आनेवाले लोगों को लेकर भी कई फैसले लिए गए हैं।


इस बार 29 मार्च को रंगों का त्योहार होली से पहले लाखों की संख्या में बिहार आनेवाले परदेसियों को लेकर सरकार को अभी से ही चिंता सता रही है। क्योंकि कोरोना संक्रमण के कहर शुरू हुए ठीक 1 साल होने को हैं, और फिर से मार्च में ही बड़ी संख्या में बाहर से लोग आने वाले हैं। इसको लेकर पटना सिविल सर्जन विभा कुमारी सिंह ने साफ कहा है कि अभी से डॉक्टरों की सूची तैयार की जा रही है, जिन्हें एयरपोर्ट से लेकर रेलवे स्टेशनों और बस स्टॉप पर तैनात किया जायेगा।



सीएस ने कहा कि जिला प्रशासन भी स्वास्थ्य विभाग की पूरी तरह से मदद लेगा, ताकि बाहर से आए लोग जांच कराने से इनकार नहीं कर सकें। डॉक्टरों की टीम के साथ सभी सार्वजनिक जगहों पर मजिस्ट्रेट और पुलिस बल की तैनाती होगी। जो कि बाहर से आने वाले लोगों को थर्मल स्क्रीनिंग के साथ कोविड टेस्ट करेंगे, ताकि बिहार में खत्म हो चुकी संक्रमण की रफ्तार फिर से नहीं बढ़े।



पॉजिटिव मरीजों का बिहार में ताजा आंकड़ा अब 500 के पास तक पहुंच गया है। साथ ही कई जिलों में एक भी पॉजिटिव मरीज नहीं बचे हैं, लेकिन बाकि 6 राज्यों में हालात भयावह होती जा रही है। इसमें फिर से महाराष्ट्र छतीसगढ़, मध्यप्रदेश, पंजाब, केरल समेत बाकि कई राज्यों में आंकड़े बढ़ने लगे हैं। इन राज्यों में बड़ी संख्या में बिहारी लोग रोजगार और मजदूरी करते हैं जो कि होली में जरूर अपने घर लौटना चाहते हैं। ऐसे में रेलवे प्रशासन के लिए भी एक बड़ी चुनौती है कि लाखों की तादाद में बिहार आने वाले लोगों के लिए ट्रेन में किस तरह का इंतजाम होगा।



इसको लेकर स्वास्थ्य विभाग ने सभी अस्पतालों को भी अलर्ट कर दिया है। प्रधान सचिव प्रत्यय अमृत ने सभी जिलों के सिविल सर्जन के साथ वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग कर पूरी व्यवस्था और संक्रमण को लेकर समीक्षा बैठक भी की है। प्रधान सचिव ने सभी आइसोलेशन सेंटर और आईसीयू को तैयार रखने का निर्देश दिया है। ऐसे में अब देखना है कि बिहार सरकार आनेवाले समय में किस तरह से चुनौतियों से निपटती है।

373 व्यूज0 टिप्पणियाँ

हाल ही के पोस्ट्स

सभी देखें