खोज करे
  • DARBHANGA CITY

दरभंगा एयरपोर्ट से चरमराई हवाई सेवा।


दरभंगा एयरपोर्ट ने जिस तरह कामयाबी हासिल की थी, ठीक उसी तरह सुविधाओं के अभाव में नीचे पायदान पर खिसकने लगी है। इसका सीधा उदाहरण हम देते चले कि मौसम में बदलाव के साथ ही दरभंगा एयरपोर्ट की कमियां उजागर हो रही है। जहां लैंडिंग की समुचित व्यवस्था नहीं होने के कारण लगातार कई दिनों से हवाई परिचालन अस्त-व्यस्त हो गया है। यहां तक कि मंगलवार को भी दोपहर दो बजे तक सभी फ्लाइट रद्द रही। वजह सुबह से घना कोहरा-कुहासा छाया हुआ था। प्रतिदिन 16 विमानों की आवाजाही होती है, पर इसमें 8 फ्लाइट ही संचालित हो सकी।


नेताओं ने साधी चुप्पी



इस सबका दोष किसे दिया जाए, सरकार को, स्थानीय प्रशासन को, एयरपोर्ट अथॉरिटी या फिर उन नेताओं को जो वादे तो बड़े-बड़े करते हैं और क्रेडिट लेने की फेरहिस्त में शामिल रहते हैं। लेकिन अभी फिलहाल चुप्पी साधे हुए हैं। बता दें कि दरभंगा एयरपोर्ट से बड़ी संख्या में उत्तर बिहार के लोग हवाई सेवा का लाभ लेने पहुंचते हैं। परन्तु एयरपोर्ट पहुंचने के बाद पता चलता है कि फ्लाइट रद्द हैं, ऐसे में उनकी हालत देखकर उनकी स्थिति का अंदाजा सहज ही लगाया जा सकता है।


यात्रियों के लिए आवश्यक व्यवस्था की जरूरत



दरभंगा एयरपोर्ट ने कम समय में अधिक यात्रियों की संख्या मामले में जिस तरह सफलता के झंडे गाड़े थे, ठीक उसी तरह कुव्यवस्था को लेकर औंधे मुंह गिरने लगे हैं। लोग मजबूरन पटना एयरपोर्ट का रूख करने लगे हैं। उड़ान योजना के तहत सबसे सफलतम एयरपोर्ट में दरभंगा का नाम शुमार हुआ था। लेकिन अफसोस की बात दरभंगा एयरपोर्ट पर विपरित परिस्थितियों में लैंडिंग के लिए रनवे लाइटिंग का काम अभी तक पूरा नहीं किया जा सका है। वहीं इंस्ट्रुमेंटल लैंडिंग सिस्टम की व्यवस्था नहीं हो सकी है। दूर-दराज से पहुंचे यात्रियों को फ्लाइट कैंसिलेशन के बाद जिस समस्या से गुजरना पड़ता है, उसके लिए एयरपोर्ट प्रशासन को आवश्यक व्यवस्था करने की जरूरत है।

582 व्यूज0 टिप्पणियाँ

हाल ही के पोस्ट्स

सभी देखें