खोज करे
  • DARBHANGA CITY

दरभंगा एयरपोर्ट का नामकरण मैथिल कवि विद्यापति के नाम पर शीघ्र।



दरभंगा एयरपोर्ट का नामकरण मैथिल कवि विद्यापति के नाम से करने के लिए गाहे-बगाहे लोगों द्वारा मांग की जाती रही है। वहीं राज्यसभा में राज्यसभा सदस्य सुशील कुमार मोदी के द्वारा पूछे गए सवाल के जवाब में नागरिक विमानन मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया ने कहा कि दरभंगा एयरपोर्ट एक डिफेंस एयरपोर्ट हैं, जिसे एयरपोर्ट अथॉरिटी ऑफ इंडिया द्वारा सिविल एंक्लेव में विकसित किया गया है। नागरिक विमानन मंत्री के अनुसार दरभंगा एयरपोर्ट का नामकरण 'विधापति' के नाम पर करने के लिए राज्य सरकार का प्रस्ताव प्रक्रियाधीन है। जिसपर जल्द ही ठोस निर्णय लेकर दरभंगा एयरपोर्ट का नामकरण करने की मंजूरी दे दी जाएगी।


मिथिला से जुड़ी देश-विदेश की कनेक्टिविटी



बताते चलें कि दरभंगा एयरपोर्ट को चालू हुए करीब नौं महीने हो गए हैं, परन्तु इतने दिन बीत जाने के बाद भी दरभंगा एयरपोर्ट का नामकरण नहीं हो पाया है। वहीं नागरिक विमानन मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया के अनुसार दरभंगा एयरपोर्ट पर घरेलू यात्री टर्मिनल एवं अन्य निर्माण कार्यों के लिए लगभग 120 करोड़ रुपए का प्रावधान किया गया है। साथ ही दरभंगा एयरपोर्ट पर पर्यटकों समेत यात्रियों के आवागमन का औसत लगभग 84000 यात्री प्रति माह हैं। मालूम हो कि उड़ान योजना के तहत तीन शहरों के लिए शुरू हुई दरभंगा से विमान सेवा आज सात शहरों के लिए उड़ान भर रही है। वहीं इसके साथ ही कनेक्टिंग फ्लाइट के जरिए मिथिलांचल के यात्री दुबई और लेह-लद्दाख की भी हवाई यात्रा कर पा रहे हैं।


दिन-प्रतिदिन यात्रियों की बढ़ रही संख्या



दरभंगा एयरपोर्ट आज किसी परिचय की मोहताज नहीं है। दरभंगा का नाम देश के शीर्ष एयरपोर्ट में शुमार हैं, वहीं दिन-प्रतिदिन यात्रियों की बढ़ती संख्या इस बात की गवाही दे रही है कि आने वाले दिनों में दरभंगा एयरपोर्ट इंटरनेशनल एयरपोर्ट के रूप में विकसित किया जा सकता है। साथ ही बिहार का पहला ऐसा एयरपोर्ट होगा, जो कम समय में सभी एयरपोर्ट को पछाड़कर नंबर-1 पर अपनी जगह बना लेगी।

1797 व्यूज0 टिप्पणियाँ

हाल ही के पोस्ट्स

सभी देखें