खोज करे
  • DARBHANGA CITY

दरभंगा शामिल हुआ भारत के सर्वश्रेष्ठ-50 एयरपोर्टों में।


दरभंगा एयरपोर्ट ने अपने पहले महीने के यात्रियों की आवाजाही के रिकार्ड को तोड़ते हुए, यात्रियों की संख्या के लेकर फिर से कीर्तिमान स्थापित किया है। बताते चलें कि दरभंगा एयरपोर्ट के ट्विटर हैंडल से जारी हुए आंकड़ों के अनुसार इस महीने करीब 33 हजार लोगों ने दरभंगा एयरपोर्ट से आवागमन किया है। वहीं 08नवंबर से 10 दिसंबर के बीच ये आंकड़ा 30 हजार यात्रियों का था। बताते चले की दरभंगा में पहले महीने आये 30 हज़ार यात्रियों को त्योहारों का आँकड़ा बताया जा रहा था, पर दूसरे महीने भी दरभंगा ने उमदा प्रदर्शन जारी रखा हैं। जिसने कई आलोचकों का मुँह बंद किया हैं, वही दरभंगा एयरपोर्ट को देश के टॉप एयरपोर्ट की श्रेणी में ला कर खड़ा कर दिया हैं।



यात्रियों की संख्या के मामले में देश के कई एयरपोर्टों को पछाड़कर शीर्ष-50 में बनाई जगह


इसके साथ ही दरभंगा एयरपोर्ट ने यात्रियों की संख्या के मामले में सिर्फ दो महीने में भारत के शीर्ष-50 एयरपोर्टों में खुद को शामिल कर लिया है। 08 नवंबर से अपनी शुरुआत के बाद अब तक कुल 63 हजार यात्रियों ने महानगरों से दरभंगा और दरभंगा से महानगरों तक का हवाई सफर किया है। बताते चलें कि यात्रियों के मामले में यह बहुत बड़ी संख्या है, जिसके बाद दरभंगा ने देश के कई एयरपोर्ट को पछाड़ते हुए यात्रियों के मामले में शीर्ष-50 में अपनी जगह बनाई है।


उड़ान एयरपोर्ट में अब तक का सफल हवाई अड्डा


सरकार के स्तर पर भी अब दरभंगा एयरपोर्ट को उड़ान योजना के तहत खुले एयरपोर्टों में अब तक का सफल हवाई अड्डा माना जा रहा है। केन्द्रीय संयुक्त सचिव नागरिक उड्डयन मंत्रालय उषा पाडे ने ट्विटर पर इसकी जानकारी साझा करते हुए एक आंकड़ा जारी किया, जिसमें दरभंगा ने झासुगुडा, कन्नौर, जैसलमेर जैसे उड़ान एयरपोर्ट को पीछे छोड़ते हुए यात्रियों के मामले में पहला स्थान हासिल किया है।


सरकार पर भी स्थायी टर्मिनल के निर्माण को लेकर बढा दवाब


इस ट्वीट में सिर्फ तीन उड़ान रूटों के साथ दरभंगा के उपलब्धि को अब तक का उड़ान योजना के तहत खुले एयरपोर्ट में सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन बताया जा रहा है। वहीं दरभंगा में बड़ी संख्या में आ रही यात्रियों के बाद सरकार पर सेवा में विस्तार और 31 एकड़ में स्थायी टर्मिनल के निर्माण को लेकर के दवाब पड़ने लगा है। हाल ही में इसी को लेकर के जिला प्रशासन और एयरफोर्स के अधिकारियों ने टर्मिनल के लिए चिन्हित 31 एकड़ जमीन का निरीक्षण किया था। जिसके बाद जल्दी जमीन अधिग्रहण और स्थायी टर्मिनल के निर्माण की संभावना प्रबल हो चली है। वहीं पार्किंग के लिए जयनगर हाइवे के समानांतर 800 फुट लंबी और 25 फुट चौड़ी पार्किंग स्थल के निर्माण का निर्णय जिला प्रशासन द्वारा लिया गया है।

4867 व्यूज0 टिप्पणियाँ

हाल ही के पोस्ट्स

सभी देखें