खोज करे
  • DARBHANGA CITY

दरभंगा में कोरोना मरीजों की संख्या में उछाल, मिले इतने संक्रमित।

दरभंगा में कल कोरोना के मामलों में बढ़ोतरी दर्ज की गयी है, जहां यह आँकड़ा कल 300 के उपर जा पहुँचा। बताते चले की पहले सौं-डेढ़ सौं मामले प्रतिदिन सामने आ रहे थे, वही शुक्रवार को केवल एक दिन में 376 संक्रमितों की पुष्टि हुई है। मालूम हो कि कोरोना महामारी की दूसरी लहर ने पूरे देश में तबाही मचाई हुई है, जिसने बिहार जैसे पिछड़े राज्य की स्वास्थ्य ढ़ाँचे की पोल खोल कर रख दी है। मरीजों के इलाज को लेकर सरकार द्वारा किए जा रहे सभी दावे खोखले साबित हो रहे हैं, वही दरभंगा मेडिकल कॉलेज की दुर्दशा ने कई अन्य राज्यो के अख़बारों में सुर्ख़ियहाँ बटोरी है। हाल में इसी को लेकर गुज़रात से प्रकाशित होने वाले समाचार दिव्य भास्कर ने स्टोरी भी कवर की है।




लगातार डीएमसीएच की कुव्यवस्था बाहर आ रही


दरभंगा की बात करें तो डीएमसीएच उत्तर बिहार का सबसे बड़ा अस्पताल हैं, यहां दूर-दराज समेत अन्य जिलों के मरीज पहुंचते हैं। वही इस मेडिकल कॉलेज की कुव्यवस्था सुर्ख़ियों में है, और यहाँ आने वाले मरीज़ों के लिए यह परेशानियों का कारण भी है। वही दरभंगा मेडिकल कॉलेज का जर्जर सर्जिकल भवन समाचारों का केन्द्र बिंदु में है, जिसको लेकर कर कई समाचार वायरल हो चुके है। फ़िलहाल सर्जिकल भवन की लगातार आ रही तस्वीरों के बाद जिलाधिकारी एक्शन में दिखे है, जहां उन्होंने डीएमसीएच में बन रहे नये सर्जिकल वार्ड का दौरा किया, वहीं किसी भी हाल में इसे जून 2022 तक पूरा कर लेना का निर्देश संवेदक को दिया। वही सुपर स्पेशलिस्ट भवन का भी निरीक्षण कर, ज़िलाधिकारी ने इससे जुड़े कार्यों को हर हाल में दो महीने में पूरा करने का निर्देश दिया।



निशुल्क कोविड-19 जांच मोबाइल वाहन चलने के बाद टेस्ट में तेजी


मालूम हो की कोरोना का संक्रमण सिर्फ शहर ही नहीं, बल्कि ग्रामीण क्षेत्रों में तेजी से पांव पसार रहा है। वहीं मौजूदा स्वास्थ्य व्यवस्था को देख लोग अस्पताल नहीं जाना चाह रहे हैं। कोविड संक्रमण से बचने के लिए सरकार की सारी तैयारियों के बीच, हर दिन किसी ना किसी जिलें से अस्पतालो और स्वास्थ्य केन्द्रों की बदहाली की तस्वीर दिखने को मिल रही है। वहीं कल दरभंगा में कोविड-19 मरीजों की संख्या में बढ़ोतरी के पीछे अब तक कम टेस्ट और नतीजों में लग रहे समय को भी बताया जा रहा है। दरभंगा में कोरोना का मामला बढ़ने की वजह, लोग निशुल्क कोविड-19 जांच मोबाइल वाहन भी बता रहे हैं। जिसे ज़िलाधिकारी द्वारा शुरू किया गया है, जिसमे विभिन्न क्षेत्रों में मोबाइल वैन से सीधे टेस्टिंग की सुविधा लोगों को मिल रही है। जिसका सीधा मतलब ये है कि पहले टेस्ट कम थी, जहां निशुल्क कोविड-19 जांच मोबाइल वाहन से इसमें तेजी आई है।

1562 व्यूज1 टिप्पणी

हाल ही के पोस्ट्स

सभी देखें