खोज करे
  • DARBHANGA CITY

दरभंगा जंक्शन पर पार्सल ब्लास्ट घटना के बाद भी सख्ती नहीं, असामाजिक तत्वों का जमावड़ा।


दरभंगा जंक्शन पर पार्सल ब्लास्ट मामले के बाद भी रेलवे स्टेशन पर कोई सख्ती नहीं देखी जा रही है। यात्रियों की भीड़ में असामाजिक तत्वों भी रेलवे परिसर के भीतर डेरा जमाये रहते हैं। यहां तक की दरभंगा जंक्शन पर चोरी की घटनाओं में भी वृद्धि हो गई है। यात्रियों को ट्रेन से सफर करना भी अब मुश्किल से कम नहीं लग रहा है। दरभंगा जंक्शन पर आये-दिन यात्रियों से मोबाइल, पर्स और भी सामानों की छिनतई की घटना बढ़ गई है। जहां कभी ट्रेन में चढ़ते वक्त तो कभी भीड़ में उनके सामानों पर चोर हाथ साफ कर लेते हैं। यात्री बेबस होकर मुंह ताकते रह जाते हैं। जिसके बाद कभी इक्का-दुक्का यात्री अगर रिपोर्ट दर्ज भी कराते हैं तो उनपर कोई कारवाई नहीं होती है।


जंक्शन पर सुरक्षा के मद्देनजर सतर्कता



दरभंगा जंक्शन पर पार्सल ब्लास्ट मामले की जांच में लश्कर-ए-तैयबा से जुड़े आतंकी का नाम सामने आया है। ये आतंकी पाकिस्तान में बैठकर दरभंगा जंक्शन को उड़ाने की साजिश रची गई थी। लेकिन वक्त रहते घटना टल गया और पार्सल ब्लास्ट में किसी को जान-माल की क्षति नहीं हुई। लेकिन इतनी बड़ी साजिश का खुलासा होने के बाद भी दरभंगा रेलवे स्टेशन और परिसर में कोई भी सतर्कता नहीं बरती जा रही है। मालूम हो कि जंक्शन के वेटिंग रूम, प्रवेश के सभी मुख्य गेट, सभी प्लेटफार्म, पार्सल घर, फुट ओवरब्रिज, बुकिंग ऑफिस में सीसीटीवी कैमरे लगाए गये हैं। परन्तु ये सभी कैमरे केवल साफ-सफाई की निगरानी को लेकर लगाया गया है। बता दें कि ये सभी कैमरे ईएनएचएम योजना के तहत इन सभी कैमरे को लगाया गया है।



183 व्यूज0 टिप्पणियाँ

हाल ही के पोस्ट्स

सभी देखें