खोज करे
  • DARBHANGA CITY

दरभंगा जंक्शन पर कोरोना प्रोटोकॉल की उड़ी धज्जियां।


दरभंगा जंक्शन पर कोरोना प्रोटोकॉल का पालन ना के बराबर हो रहा है। बता दें कि बिहार में कोरोना की बढ़ती रफ्तार को लेकर गाइडलाइन जारी किया गया है। प्रतिदिन कोरोना के बढ़ते नये मामलों के बीच दरभंगा जंक्शन पर कोई विशेष व्यवस्था नहीं की गई है। जहां महानगरों से आने वाली ट्रेनों में आसानी से लोग आ-जा रहे हैं। उनपर कोई नजर नहीं रखी जा रही है। लोग बिना जांच कराएं आराम से अपने घर को रवाना हो जाते हैं। यहां तक कि जंक्शन पर बिना मास्क लगाएं यात्री भी बेधड़क घुम रहे हैं।


लोग जागरूक नहीं



मालूम हो कि इससे पहले बिहार के सभी रेलवे स्टेशनों पर बाहर से आने वाले प्रवासियों को सख्ती से कोरोना जांच और क्वारंटीन किया गया था। लेकिन अब जबकि बिहार में कोरोना नियंत्रण से बाहर होती जा रही है, ऐसे में दरभंगा जंक्शन पर व्यवस्था नदारद है। बाहर से आने वाले ट्रेनों के लोग बिना किसी जांच प्रक्रिया से गुजरे गांव पहुंच रहे हैं, ये सोचने वाली बात है। अगर गांव में कोरोना विस्फोटक हुआ तो स्थिति काफी बेकाबू हो सकती है। वर्तमान में दरभंगा जंक्शन पर एक कोरोना जांच केंद्र बना हैं, जिसपर दिनभर में करीब ढ़ाई सौं लोगों की जांच हो पाती है।


संक्रमण रोक पाना होगा मुश्किल



लेकिन सभी यात्री जांच में रूचि नहीं दिखाते, और दूसरे रूट से बाहर निकल जाते हैं। वहीं दरभंगा रेलवे स्टेशन परिसर और प्लेटफार्म पर कोरोना प्रोटोकॉल का पालन ना के बराबर है। सोशल डिस्टेंसिंग तो दूर की बात, मास्क भी लगाना गंवारा नहीं कर रहे। फुट ओवरब्रिज की सीढ़ियों पर धक्का-मुक्की करने से भी बाज नहीं आते। ऐसे में संक्रमण पर लगाम लग पाना काफी मुश्किल है।

203 व्यूज0 टिप्पणियाँ

हाल ही के पोस्ट्स

सभी देखें