खोज करे
  • DARBHANGA CITY

दरभंगा जंक्शन पर बाहर से आने वाले यात्री बिना किसी जांच के बचकर निकल रहे।


दरभंगा जंक्शन पर महानगरों से आने वाली ट्रेनों जिसमें दिल्ली-मुंबई जहां कोरोना के विस्फोटक मामले सामने आ रहे हैं, वहां से आने वाली ट्रेन पवन एक्सप्रेस ट्रेन से उतरने वाले यात्री बिना किसी जांच के बचकर बाहर निकल रहें हैं, जो कि बहुत घातक होने वाला है। मालूम हो कि बिहार में एक तरफ कोरोना संक्रमण की रोकथाम के लिए काफी प्रयास किए जा रहे हैं वहीं दूसरे तरफ रेलवे और जिला प्रशासन की ओर से इस ढ़ीलाई पर किसको जिम्मेदार समझा जाए यह सोचने की बात हैं।



यहां तक कि दरभंगा जंक्शन के प्लेटफार्म पर आम दिनों की तरह ही भीड़ देखी जा रही है। जहां बिना मास्क लगाएं व्यक्ति भी आराम से देखे जा सकते हैं। इसमें रेलवे के कर्मचारी भी यदा-कदा बिना मास्क लगाएं मिल जाते हैं। एक तरफ सरकार संक्रमण की रफ्तार पर लगाम कसने के लिए पाबंदी पर पाबंदी लगा रही है। लेकिन रेलवे स्टेशन पर इस तरह की भीड़ सोचने को मजबूर कर देती है कि संक्रमण पर अंकुश कैसे लगाया जाए। हालांकि रेलवे की ओर से बार-बार कोरोना को लेकर एहतियात बरतने की अपील के बावजूद यात्री लापरवाही दिखा रहे हैं।



इतना ही नहीं प्लेटफार्म नंबर-1 पर बाहर से आने वाले ट्रेनों के यात्री कोरोना जांच से बचने के लिए इधर-उधर से निकल जाते हैं। दरभंगा जंक्शन के प्लेटफार्म पर एक ही जांच काउंटर है। उस पर भी यात्री इसे लेकर उदासीन हैं। रेलवे प्रशासन को बाहर से आने वाले हरेक ट्रेन के यात्रियों की जांच सुनिश्चित करने के लिए इस दिशा में ठोस कदम उठाने की जरूरत है। जंक्शन पर जांच का दायरा बढ़ाने की आवश्यकता है, जिससे रेलवे स्टेशन पर आने-जाने वाले यात्रियों की सघनता से जांच की जाए। इससे संक्रमण फैलने से रोका जा सकता है।

246 व्यूज0 टिप्पणियाँ

हाल ही के पोस्ट्स

सभी देखें