खोज करे
  • DARBHANGA CITY

दरभंगा का एक ऐसा जगह जहां शुरू हुई अनूठी मुहिम, शराबियों का सामाजिक बहिष्कार।



बिहार में एक तरफ जहां शराबबंदी लागू हैं वहीं दूसरी तरफ शराबबंदी की धज्जियां उड़ाई जा रही है। शराब तस्करों द्वारा शराब की बड़ी-बड़ी खेप पकड़ाई जा रही है तो वहीं इसमें लोग शराब पार्टी भी करते नजर आते हैं। सरकार द्वारा जारी दिशा-निर्देशों को दरकिनार करते हुए शराबी जाम छलकाने से बाज नहीं आ रहे हैं। मगर इन सब के बीच दरभंगा से एक अच्छी खबर सामने आ रही है। दरभंगा जिले के कठरा पंचायत में शराबियों पर नकेल कसने के लिए अनूठी पहल की गई है। इस पंचायत के मुखिया ने सख्ती बरतते हुए मुनादी करवाई है कि शराब पीने वाले को सामाजिक रूप से अलग करते हुए यहां होने वाले सामूहिक भोज से भी बहिष्कार कर दिये जाएंगे।


शराब पर रोक लगाने के लिए यह मुहिम



बताते चलें कि कठरा पंचायत की नवनिर्वाचित मुखिया कुमकुम देवी ने शराब को पूर्ण रूप से रोकने के लिए रविवार से इस अभियान को शुरू किया हैं। उनके मुताबिक शराब के कारण लोगों का घर-परिवार तबाह हो रहा है, घरेलू हिंसा बढ़ रही है। बच्चों का लालन-पालन खराब हो रहा है, शराब से भावी पीढ़ी के संस्कार पर बुरा असर पड़ रहा है। इसको लेकर ही इस अभियान की शुरुआत की गई है। सामाजिक बहिष्कार की सजा से लोगों में बदलाव आएगा। यह मुहिम शराबबंदी में मील का पत्थर साबित होगा।


महिलाओं एवं युवाओं का पूरा सपोर्ट



कठरा पंचायत में मुनादी करवा कर यह घोषणा की गई कि शराब पीने, बेचने और खरीदने वालों की सूचना पुलिस को तत्काल दी जाय। वहीं अगर लोग इस बात को नहीं समझे तो सामाजिक बहिष्कार के लिए तैयार रहिए। हालांकि इस मुनादी के बाद अभी तक एक भी मामला सामने नहीं आया है। सामाजिक बहिष्कार के अंतर्गत किसी भी सामूहिक आयोजन में उनको सम्मिलित नहीं किया जाएगा। उनसे बोलचाल बंद करने के साथ-साथ भोज-भात से भी बहिष्कृत किया जाएगा। मालूम हो कि मुखिया की इस मुहिम को महिलाओं एवं युवाओं का पूरा सपोर्ट मिल रहा है। युवाओं का ग्रुप शराबियों और इस धंधे में संलिप्त लोगों पर नजर रख रही है। मुखिया की इस पहल से गांव के लोग एकजुट होकर शराब का विरोध कर रहे हैं।

771 व्यूज0 टिप्पणियाँ

हाल ही के पोस्ट्स

सभी देखें