खोज करे
  • DARBHANGA CITY

पूर्व डीजीपी गुप्तेश्वर पांडेय को नहीं मिली जदयू से टिकट, तौबा किया चुनाव लड़ने से।


समय से पहले वीआरएस लेकर पूर्व डीजीपी गुप्तेश्वर पांडेय ने सबको चौंका दिया था। बताते चलें कि अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत मामले से अचानक चर्चा में आए थे डीजीपी। जहां मामले की तहकीकात को लेकर बिहार पुलिस की टीम को मुंबई भेजा गया था, जिसे महाराष्ट्र सरकार ने मुंबई में रोक लगा दिया। जिसपर गुप्तेश्वर पांडेय ने महाराष्ट्र पुलिस पर सीधा आरोप लगाया था कि सुशांत के मौत की पुलिस द्वारा सही तरीके से जांच नहीं की गई।


बक्सर में पहले से अश्विनी चौबे जैसे चेहरे का दबदबा


मालूम हो कि पूर्व डीजीपी गुप्तेश्वर पांडेय करीब दस दिन पहले ही जदयू में शामिल हुए थे। पूर्व डीजीपी अपने होमटाउन बक्सर से चुनावी मैदान के रेस से बाहर हो गए हैं। क्योंकि पहले से ही बक्सर लोकसभा सांसद अश्विनी चौबे जैसे नेता के साथ बीजेपी का दबदबा कायम रहा है। जो कि वर्तमान में वहां कॉग्रेस काबिज है।


चुनाव को लेकर पहले भी ले चुके हैं वीआरएस


टिकट नहीं मिलने पर पूर्व डीजीपी ने सोशल मीडिया के माध्यम से सफाई पेश की, जिसमें साफ तौर पर लिखा कि वह चुनाव नहीं लड़ रहे हैं। मालूम हो कि साल 2009 में भी पूर्व डीजीपी ने लोकसभा चुनाव लड़ने की चाहत से वीआरएस लिया था। लेकिन सरकार ने सेवानिवृत्ति को अस्वीकृत कर उन्हें फिर से सेवा में बहाल कर दिया था।

377 व्यूज0 टिप्पणियाँ

हाल ही के पोस्ट्स

सभी देखें