खोज करे
  • DARBHANGA CITY

उत्तर बिहार का सबसे बड़ा अस्पताल डीएमसीएच कराह रहा अपनी कुव्यवस्था पर।



डीएमसीएच दरभंगा यूं तो कहने के लिए उत्तर बिहार का सबसे बड़ा अस्पताल हैं। पर इसके भीतर इलाज की व्यवस्था और कुव्यवस्था देखकर मरीजों का रोआं सिहर उठता है। जी हां, डीएमसीएच दरभंगा की देशभर के समाचार पत्र और चैनलों पर अपनी कुव्यवस्था को लेकर सुर्ख़ियों में छाया हुआ है। कहने को तो सबसे बड़ा मेडिकल कॉलेज एंड हॉस्पिटल हैं, परन्तु मरीजों के लिए ढ़ाक के तीन पात साबित हो रहा है। मिथिलांचल के लिए डीएमसीएच किसी वरदान से कम नहीं है, जहां अलग-अलग बीमारी के लिए अलग-अलग विभाग बने हुए हैं। वहीं इसमें सबसे महत्वपूर्ण हैं इमरजेंसी वार्ड, जहां पर गंभीर से गंभीर मरीजों को भर्ती किया जाता है। अस्पताल प्रबंधन द्वारा मरीजों को बेहतर मेडिकल सुविधा देने का भरोसा दिलाया जाता है। लेकिन यहां इलाजरत मरीज काफी असुविधाओं के बीच रहने को मजबूर होते हैं।



खामियां को दूर करने की हैं जरूरत



कई बार तो मरीज की संख्या अधिक हो जाने पर फर्श पर लिटाकर इलाज किया जाता है। वही मरीज की इलाज में कई बार चूक हो जाती है, जिससे उनकी पीड़ा को और भी अधिक बढ़ा देती है। मालूम हो कि अस्पताल में सही ढंग से सीसीडब्लयू, ऑक्सीजन पाइपलाइन नहीं है। डीएमसीएच की इलाज व्यवस्था हांफ रही है। डीएमसीएच के जर्जर भवन में मरीजों का इलाज चलता है। मरीजों के साथ-साथ अस्पताल कर्मी और डॉक्टर को भी समस्या होती है। डीएमसीएच में इतनी गंदगी पसरी होती है कि आम लोग जाने से भी कतराते हैं। अस्पताल के बिल्डिंग पर बड़े-बड़े झाड़ी उगे हुए हैं, गंदा पानी जमा हैं। इधर-उधर सूअर आराम से भटकते देखे जा सकते हैं। साफ-सफाई का बिल्कुल भी ध्यान नहीं रखा जाता है। यूज किए हुए मास्क और ग्लव्स कहीं भी फ़ेंक दिए जाते हैं। इसके साथ ही डीएमसीएच में बहुत सारी ऐसी खामियां हैं जिसे दूर किए जाने की शीघ्र जरूरत है।


227 व्यूज0 टिप्पणियाँ

हाल ही के पोस्ट्स

सभी देखें