खोज करे
  • DARBHANGA CITY

नव वर्ष के आगमन के साथ ही भारत-नेपाल के बीच रेल सेवा बहाल।



साल जाने को हैं और नये वर्ष अपने आगमन को लेकर आतुर। जहां पूरे साल लोग इंडो-नेपाल के बीच रेल यातायात बहाल होने की बाट जोह रहे थे। वहीं अब पुराने वर्ष के प्रस्थान करने के साथ ही नये वर्ष के आगमन पर भारत-नेपाल रेल नेटवर्क से जुड़ जाएगा। इस कड़ी में भारत के बिहार राज्य स्थित जयनगर और नेपाल के जनकपुर ट्रैक शुरू करने की तैयारियां पूरी कर ली गई है। जयनगर से बर्दीबास ट्रैक के कुर्था स्टेशन तक रेल परिचालन बहाल की जाएगी।


जनवरी में रेल सेवा शुरू होने की संभावना



बताते चलें कि जयनगर-बर्दीबास तक 68 किलोमीटर ट्रैक को तीन भागों में बांट कर कार्य किया जा रहा है। जहां पहले जयनगर से कुर्था, कुर्था से बिजलपुरा और बिजलपुरा से बर्दीबास। जयनगर से बर्दीबास रेल लाइन पर 8 स्टेशन और 6 हॉल्ट है। नव वर्ष के आगमन के साथ ही भारत रेल नेटवर्क से नेपाल की सीधी कनेक्टिविटी उपलब्ध हो जाएगी। जनवरी में पूरी संभावना है कि रेल यातायात बहाल हो जाएगी।


बर्दीबास भी जुड़ेगा रेल नेटवर्क से



मालूम हो कि जयनगर-कुर्था रेल लाइन को बहुत पहले ही पूरा कर लिया गया था। कोंकण रेलवे ने 2020 में ही नेपाल सरकार को 10 डेमू ट्रेन कोच सौंप दिए थे। लेकिन कई कारणों को लेकर अब तक रेल परिचालन शुरू नहीं किया जा सका। जयनगर-कुर्था के बीच रेल सेवा बहाल होने के बाद जल्द ही बर्दीबास भी रेल से जुड़ जाएगा। बता दें कि कुर्था और बिजलपुरा के बीच ट्रैक बिछाने और सिग्नलिंग का काम पूरा किया जा चुका है। जहां जयनगर-कुर्था के बीच रेल सेवा शुरू होने के बाद विशेषज्ञों की एक टीम कुर्था-बिजलपुरा रूट पर स्पीडी ट्रायल करेगी। जिसके बाद तीसरा और अंतिम चरण में बिजलपुरा से बर्दीबास तक काम पूरा किया जाएगा।

3268 व्यूज0 टिप्पणियाँ

हाल ही के पोस्ट्स

सभी देखें