खोज करे
  • DARBHANGA CITY

मधुबनी पेंटिंग से सज रही माता सीता की नगरी, देश-विदेश के पर्यटकों को आकर्षित करेगा मिथिला पेंटिंग।


मधुबनी पेंटिंग की ख्याति सिर्फ बिहार ही नहीं, वरन् यहां से निकलकर देश-विदेश में अपनी पहचान बना चुकी है। वहीं अब इसी क्रम में इसे सीतामढ़ी स्थित माता सीता के मंदिर परिसर में मिथिला पेंटिंग करने के लिये दर्जनो कलाकारों को यहां बुलाया गया है। बता दें कि मिथिला की इस पेंटिंग प्रणाली को कोरोना काल में मास्क पर बनाया गया, जिसे काफी सराहना मिली और इसका प्रचार-प्रसार करने की कोशिश भी की गई थी।


पेंटिंग का प्रचार-प्रसार


वहीं अब मिथिला की मधबुनी पेंटिंग को अब माता सीता एक नई पहचान दिलायेगी। बताते चलें कि मां सीता को मिथिला की बेटी माना जाता है। तो वहीं भगवान राम को दामाद, जिसे मिथिलांचल में पाहुन कहा जाता है। माता सीता को अपनी बेटी की तरह मानकर उऩकी पूजा करते हैं। मां सीता का मिथिला से एक अलग संबंध है तो वहीं दूसरी ओर मधुबनी पेन्टिंग को मिथिला की पहचान और इसका वजूद माना जाता है। हाल के दिनों में मधुबनी पेंटिंग को बढ़ावा देने के लिये कई तरह के अभियान भी चलाये गये हैं।


रामायण काल से सीतामढ़ी जिले का हैं जुड़ाव


सीतामढ़ी प्रशासन द्वारा मधुबनी पेन्टिंग को देश और दुनिया में नई पहचान दिलायी जा सकी, इसके लिये लगातार अभियान चलाया जा रहा है। बता दें कि इसको लेकर सीतामढ़ी की जिलाधिकारी द्वारा वैसे धार्मिक स्थलों को मधुबनी पेन्टिंग से सजाने का काम कराया जा रहा है, जिसका संबंध रामायाण काल से जुड़ा है। जानकारी के लिए बता दें कि सीतामढ़ी जिला रामायण काल से जुड़ा है और माता सीता इसी पवित्र स्थल पर धरती के गर्भ से प्रकट हुई थी।


मधुबनी पेंटिंग की कलाकृति से पर्यटक होंगे रूबरू


मंदिरों में माता सीता के बाल्य रुप से लेकर उनके विवाह विवरण तक को मधुबनी पेन्टिंग के जरिये दीवारों पर बेहतरीन तरीके से उतारने की कोशिश की गयी है। प्रशासन का ऐसा मानना है कि देश के कोने-कोने से पर्यटक यहां आते हैं। वो यहां भगवान राम और माता सीता के दर्शन के अलावा मधुबनी पेन्टिंग की बेहतरीन कलाकारी को देखेंगे और इसकी यादों को अपने साथ ले जायेंगे।


सीतामढ़ी डीएम ने पेंटिंग को लिया ड्रीम प्रोजेक्ट की तरह


आने वाले समय में मधुबनी पेन्टिंग को अपनी नई पहचान मिल सके, इसके लिये कई और तरह के प्रयास करने की योजना सीतामढ़ी जिला प्रशासन के पास है। मंदिर पर मिथिला पेन्टिंग करने के लिये दर्जनों कलाकारों को यहां बुलाया गया है। नाबार्ड भी इस मामले में सीतामढ़ी प्रशासन का सहयोग कर रहा है। सीतामढ़ी डीएम अभिलाषा कुमारी शर्मा इसे ड्रीम प्रोजेक्ट के रुप मे देख रही हैं। डीएम सीतामढ़ी जिले में पदस्थापना के दौरान से ही मिथिला पेन्टिंग को नई पहचान दिलाने की कोशिश में हैं।


भविष्य में पुनौराधाम में अर्बनहाट का निर्माण


कोरोना महामारी के दौरान भी मास्क पर मधुबनी पेन्टिंग के जरिये कलाकारों ने इसे बेहतर लुक देने का काम किया जिसे आम लोगों ने बेहद पसंद किया। सीतामढ़ी की डीएम अभिलाषा कुमारी शर्मा का कहना है कि मधुबनी पेन्टिंग को बेहतर पहचान मिले इसको लेकर प्रशासन के पास कई तरह की योजनाएं हैं। आने वाले समय में पुनौराधाम में अर्बन हाट का निर्माण भी किया जायेगा जिसमें मधुबनी पेन्टिंग से जुड़ी चीजें रखी जायेंगी और पर्यटक उसे खरीद सकेंगे।

136 व्यूज0 टिप्पणियाँ

हाल ही के पोस्ट्स

सभी देखें