खोज करे
  • DARBHANGA CITY

दरभंगा एयरपोर्ट से विमान गायब।


हवाई सफर को लेकर पूरे उत्तर बिहार समेत नेपाल के लोग के लिए, दरभंगा एयरपोर्ट आज के दिन में सबसे बेहतरीन विकल्प हैं। बता दें कि 08 नवंबर 2020 को दरभंगा एयरपोर्ट से केंद्र सरकार की उड़ान योजना के तहत हवाई सेवा बहाल किया गया था, जहां विमानन कंपनी स्पाइसजेट द्वारा शुरुआत में दिल्ली, मुंबई और बेंगलुरु के लिए सीधी फ्लाइट की शुरुआत की गई। दरभंगा एयरपोर्ट पर मिले यात्रियों के जबरदस्त रिस्पांस के बाद, अहमदाबाद सहित कई रूटों पर भी विमान सेवा की शुरुआत की घोषणा कंपनी द्वारा की गयी। जिसके तहत नॉन उड़ान रूट पर सबसे पहले दरभंगा अहमदाबाद के बीच हवाई सेवा की शुरुआत दरभंगा एयरपोर्ट से की गयी, वहीं दरभंग-पुणे और दरभंग- हैदराबाद के लिए भी कई तारीखों का एलान कंपनी द्वारा समय समय पर किया गया।


तीन दिन ही सामान्य उड़ान हो सका संभव


दरभंगा-दिल्ली रूट पर यात्रियों की भारी भीड़ को लेकर एक और विमान शुरू होने के साथ अब प्रतिदिन दो विमान दरभंगा से उड़ान भरती है। वहीं 10 मार्च से Spicejet ने दरभंगा- मुंबई रूट पर भी होली को लेकर, एक अतिरिक्त फ्लाइट शुरू की है। इसके अलावा स्पाइसजेट ने हाल में बंद की गयी दरभंग- अहमदाबाद रूट पर भी फिर से अपनी उड़ान आरंभ की है। पर कंपनी द्वारा दरभंगा एयरपोर्ट पर चल रहे विमान सेवाओं में, कई रूटों पर आश्चर्यजनक खेल खेला जा रहा है। जहां शुरुआत के एक-दो दिन तक दरभंग- अहमदाबाद के बीच उड़ान जारी रही, लेकिन उसके बाद अब हमेशा बिना किसी कारण और सूचना के बिना इस रूट पर फ्लाइट रद्द की जा रही है। यही हाल स्पाइसजेट का अन्य रूटों का भी है, मालूम हो की दरभंगा एयरपोर्ट से प्रतिदिन 12 फ्लाइटों का आवागमन है। दरभंगा एयरपोर्ट से स्पाइसजेट प्रबंधन द्वारा कभी 10 तो कभी 8 फ्लाइटों का उड़ान संभव कराया जा रहा है।



विमानों का गायब होना शुरू


मालूम हो की अहमदाबाद के लिए फ्लाइट शुरू करने के बाद इसे बंद कर दिया गया था, स्पाइसजेट ने कम यात्रियों का हवाला देते हुए इसे बंद करने की बात कही थी। वहीं 10 मार्च से दुबारा इस रूट पर हवाई उड़ान बहाल किया गया, जिसके बाद कुल मिलाकर दरभंगा एयरपोर्ट से प्रतिदिन 12 फ्लाइटों का उड़ान निर्धारित किया गया है। लेकिन अफसोस, केवल 3 दिन ही दरभंगा एयरपोर्ट से सभी विमानों का उड़ान संभव हो सका।वही उसके बाद से अब तक कई रूटों से दरभंगा एयरपोर्ट आने वाली विमानो का गायब होना शुरू हो गया है।


प्रबंधन की गलती का खामियाजा यात्रियों को


दरभंगा एयरपोर्ट के ट्विटर हैंडल पर जारी आंकड़ों के मुताबिक तीन दिन ही 12 विमानों का उड़ान संभव हो पाया है। बता दें कि अब मौसम भी ऐसा नहीं है, कि घने कोहरे-कुहासे को लेकर लो विजिबिलिटी की समस्या आये। वही स्पाइसजेट प्रबंधन की लापरवाही का खामियाजा यात्रियों को भुगतना पड़ता है, जहां उन्हें आखिरी वक्त पर पता चलता है कि फ्लाइट कैंसिल हो गई है। ऐसे में दरभंगा एयरपोर्ट पर उनकी परेशानी का सहज ही अनुमान लगाया जा सकता है। दूर-दराज से यात्री एयरपोर्ट पहुंचते हैं, जहां कैंसिलेशन की खबर मिलने पर उन्हें मायूसी के साथ परेशानी अलग झेलनी पड़ती है।

4402 व्यूज0 टिप्पणियाँ

हाल ही के पोस्ट्स

सभी देखें