खोज करे
  • DARBHANGA CITY

मुजफ्फरपुर में पताही एयरपोर्ट शुरू होने से पहले ही हुई धराशाई।


मुजफ्फरपुर में पताही एयरपोर्ट को चालू करने के लिए गाहे-बगाहे सोशल मीडिया पर वार छिड़ी रहती है। जिसमें दरभंगा एयरपोर्ट से हवाई उड़ान शुरू होने के बाद से ही यह जंग छिड़ा हुआ है कि पताही एयरपोर्ट को चालू किया जाए। लेकिन पत्ते की बात तो यह है कि सालों पहले अस्तित्व में आई पताही एयरपोर्ट से हवाई उड़ान चालू होने की आशा जो जगी थी, वो धराशाई हो गयी हैं। मामला कुछ यूं है कि उड्डयन मंत्रालय ने 3 माह पहले बिहार के पांच हवाई अड्डे को शुरू करने की घोषणा की, जिसमें पताही एयरपोर्ट भी शामिल थी।


भविष्य में किया जा सकता है विचार



पताही एयरपोर्ट से हवाई सेवा शुरू होने की उम्मीद लोगों में जगी थी। इसी बीच कुछ दिनों पहले नागरिक विमानन मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया ने पताही एयरपोर्ट से हवाई सेवा शुरू करने को लेकर बड़ी बाधा बताई, जिसमें पताही एयरपोर्ट को लेकर किसी विमानन कंपनियों ने अपनी रूचि नही दिखाई, और ना ही इसको लेकर कंपनी द्वारा बोली लगाई गई। केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया ने यह भी साफ किया कि भविष्य में अगर कोई कंपनी तैयार हुई तो यहां से हवाई उड़ान शुरू करने पर विचार किया जाएगा। बता दें कि मंत्रालय को पताही एयरपोर्ट शुरू करने के लिए जनप्रतिनिधियों द्वारा बार-बार पत्र भेजा जाता रहा है, जिसमें रनवे के लिए जमीन की कमी बताकर मंत्रालय इनकार करती रही है।


सपना केवल सपना या बदलेगी हकीकत में



अब पताही एयरपोर्ट का मामला नाटकीय मोड़ में आ चुका हैं। ज़ी हां, आपको बता दें कि पताही एयरपोर्ट को लेकर अभी बयानबाजी ही चल रही थी कि पताही के ग्रामीणों ने जमीन देने से मना कर दिया है। ग्रामीणों ने डीएम को दिए गए आवेदन में कहा है कि पहले ही नहर, एनएच और बाईपास के लिए जमीन दे चुके हैं, और अब नहीं। मालूम हो कि पताही एयरपोर्ट के रनवे के लिए 475 एकड़ जमीन की जरूरत है। गांव के लोगों का कहना है कि अगर हवाई अड्डे में जमीन दे देंगे तो हमारे गांव का अस्तित्व खत्म हो जाएगा। खैर देखना ये दिलचस्प है कि मुजफ्फरपुर में एयरपोर्ट का सपना केवल सपना ही रहेगा या कभी हकीकत में भी बदलेगी।

17620 व्यूज0 टिप्पणियाँ

हाल ही के पोस्ट्स

सभी देखें