खोज करे
  • DARBHANGA CITY

पीएम मोदी ने नीतीश कुमार की डूबती नैया को लगाया पार, पीएम की बदौलत फिर से नीतीश सरकार।


बिहार में नीतीश कुमार की डूबती नैया को पीएम नरेंद्र मोदी ने पार लगा दिया है। बिहार विधानसभा सभा में पीएम ने जिस तरह से चुनावी रैलियां किया, उसके बाद से एनडीए पर बिहार की जनता का भरोसा बढ़ता चला गया। प्रधानमंत्री ने बिहार के लोगों को जिस तरह आगाह किया कि उनका वोट एक बार फिर बिहार में जंगलराज ला सकता है, जनता ने भाजपा पर भरोसा जताते हुए उनका मान रख लिया।


एग्जिट पोल का नतीजा निकला हवा-हवाई


Bihar Assembly Election के नतीजों ने सबको चौका दिया है। जनता की चुप्पी और नब्ज पकड़ना किसी भी Exit poll के बस की बात नहीं है। बिहार चुनाव के बाद आए एग्जिट पोल ने भले ही महागठबंधन के सिर पर जीत का ताज पहना दिया हो, लेकिन सच्चाई इससे बिल्कुल अलग निकली। बिहार में एक बार फिर से एनडीए की सरकार बन चुकी है और नीतीश कुमार अगले 5 सालों के लिए मुख्यमंत्री की कुर्सी पर बैठने को तैयार हो गये है। बता दें बिहार विधानसभा चुनाव में एनडीए को 125 सीटें, महागठबंधन को 110 सीट, लोजपा को 1 जबकि अन्य के खाते में 7 सीटें गई हैं।


इन पार्टियों के खाते गई इतनी सीटें


बिहार के चुनाव नतीजों पर गौर फरमाये तो एनडीए के बीजेपी के खाते में सबसे ज्यादा सीटें गई हैं। जो कि बीजेपी की बिहार में सबसे बड़ी जीत है। बिहार के चुनाव में बीजेपी को 74 सीटें हासिल हुई हैं। वहीं जदयू के खाते में 43 सीटें गई हैं। इस बार के चुनाव में VIP को 4, और हम को 4 सीट मिली है।


सबसे खराब स्थिति लोजपा की


इस बार के बिहार विधान सभा चुनाव में महागठबंधन से बीजेपी को कड़ी टक्कर मिली है। महागठबंधन के खाते में 110 सीटें गई हैं। महागठबंधन में आरजेडी के खाते में 75 सीटें जबकि कांग्रेस को 19 सीटें मिली हैं। इस गठबंधन की अन्य पार्टियों में सीपीआईएमएल को 12 सीटें जबकि सीपीएम को 2 सीटें मिली हैं. बिहार चुनाव में सीपीआई के खाते में मात्र 2 सीटें गई हैं। इस चुनाव में सबसे खराब स्थिति एलजेपी की रही। चिराग पासवान के नेतृत्व में इस बार ​का चुनाव लड़ रही एलजेपी को केवल 1 सीटें मिली है।

92 व्यूज0 टिप्पणियाँ

हाल ही के पोस्ट्स

सभी देखें