खोज करे
  • DARBHANGA CITY

दरभंगा के श्यामा माई मंदिर परिसर समेत इन ऐतिहासिक धरोहर को पर्यटन स्थल घोषित करने की पहल।



उत्तर बिहार एवं मिथिला का प्रमुख केन्द्र दरभंगा में पर्यटन की अपार संभावनाएं हैं। इसको लेकर सांसद ने केंद्रीय रक्षा एवं पर्यटन राज्य मंत्री अजय भट्ट से मुलाकात कर दरभंगा में पर्यटन के क्षेत्र में विकास से संबंधित विभिन्न विषयों पर बातचीत की गई। जिसमें सांसद ने दरभंगा राज परिसर स्थित श्यामा माई मंदिर को तीर्थ स्थल घोषित कर इसका संपूर्ण विकास करने, विश्व प्रसिद्ध एवं ऐतिहासिक राज किला को राष्ट्रीय धरोहर घोषित करने तथा इसका समुचित संरक्षण एवं संवर्धन, कुशेश्वरस्थान महादेव मंदिर के साथ पूरे परिसर का सौंदर्यीकरण और शहर के तीन मुख्य तालाबों को जोड़कर पर्यटन केंद्र के रूप में विकसित करने को लिए केन्द्रीय मंत्री से वार्ता की।


मां श्यामा की मंदिर पौराणिक दृष्टि से महत्वपूर्ण



सांसद ने दरभंगा राज किला के बारे में कहा कि यह सैकड़ों वर्ष पुराना है। जो कि अपने आप में अद्भुत एवं अद्वितीय है। दरभंगा महाराज द्वारा बनाएं गये भव्य महल एवं किला की वास्तुकला अति दुर्लभ है। दरभंगा शहर के मध्य में विशाल भू-भाग पर स्थित मां श्यामा की मंदिर पौराणिक एवं ऐतिहासिक महत्व काफी अधिक है। यहां सभी देवी-देवताओं के मंदिर स्थापित किए गए हैं, जो अपने आप में एक अलग ऐतिहासिक कलाकृति को सहेजे हुए हैं। मां श्यामा की दर्शन को लेकर दूर-दराज के लोगों के साथ नेपाल के लोग भी आते हैं।


यहां पर्यटन की अपार संभावनाएं मौजूद



मालूम हो कि दरभंगा शहर के मध्य में तीन ऐतिहासिक और विशाल पोखर अवस्थित है। यह पोखर दरभंगा का मुख्य आकर्षण है। वहीं अगर तीनों तालाब को आपस में जोड़कर इसे पर्यटन हब के रूप में विकसित किये जाने से रोजगार का एक बड़ा अवसर उपलब्ध होगा। वहीं कुशेश्वरस्थान में स्थित बाबा कुशेश्वरनाथ मिथिला के देवघर के रूप में विख्यात है। मंदिर के साज-सज्जा पर ध्यान दिए जाने की जरूरत है। दरभंगा में एयरपोर्ट चालू हो जाने के बाद पर्यटन की अपार संभावनाएं विकसित की जा सकती है।

369 व्यूज0 टिप्पणियाँ

हाल ही के पोस्ट्स

सभी देखें