खोज करे
  • DARBHANGA CITY

मधुबनी में 22 साल के युवा पत्रकार की जलाकर निर्मम हत्या।


मधुबनी में 22 साल के पत्रकार बुद्धिनाथ उर्फ अविनाश झा की जलाकर निर्मम हत्या कर दी गई, ये कहां तक उचित हैं? बताते चलें कि बेबाकी एवं निर्भीकता से पत्रकारिता करना क्या आजकल मुश्किल हो चला है, अगर इसका जवाब हां है तो ये बहुत ही शर्मनाक हैं हमारे समाज के लिए। बेनीपट्टी में 22 साल के पत्रकार की जिस तरह निर्मम हत्या की गई है, उससे सनसनी फैल गई है। पूरी खबर विस्तार से बता दें कि युवा पत्रकार बुद्धिनाथ उर्फ अविनाश झा मधुबनी जिले के बेनीपट्टी लोहिया चौक के रहने वाले थे।


बेबाकी एवं निर्भीकता से करते थे रिपोर्टिंग



22 साल के बुद्धिनाथ उर्फ अविनाश झा पेशे से पत्रकार और आरटीआई कार्यकर्ता थे। वे एक लोकल न्यूज पोर्टल के लिए किम करते थे। बीते दिनों उन्होंने कई प्राइवेट अस्पताल की खामियों को उजागर किया था। इसको लेकर कई क्लिनिक और निजी अस्पतालों पर गाज गिरी थी। जिसमें कई अस्पताल को बंद करना पड़ा था, कुछ को जुर्माना भरना पड़ा था। युवा पत्रकार बेबाकी एवं निर्भीकता से रिपोर्टिंग किया करते थे। इसको लेकर उन्हें धमकियां देने के साथ पैसों का लालच भी दिया जाता था।


घर नहीं लौटने पर खोजबीन शुरू



बेनीपट्टी में लोहिया चौक पर युवा पत्रकार बुद्धिनाथ उर्फ अविनाश झा का आवास हैं। हत्या से पहले उनको आखिरी बार मंगलवार की रात देखा गया था, जहां रात 09 बजे के बाद वह घर के पास ही टहल रहे थे। सीसीटीवी फुटेज के मुताबिक वह टहलने के दौरान मोबाइल से बात भी कर रहे थे। अविनाश झा पुलिस स्टेशन के पास से भी गुजरे थे। उस समय उनकी बाईक घर पर लगी थी, क्लिनिक खुला था और लैपटॉप भी। परिजनों के अनुसार वे इधर-उधर ही कहीं होंगे। लेकिन अगले दिन शाम तक घर नहीं लौटने पर खोजबीन करनी शुरू कर दी। पुलिस में कंपलेन दर्ज कराया, जहां उनका मोबाइल फोन ट्रैक करने की कोशिश की गई।


हत्या के विरोध में आक्रोशित लोगों ने किया विरोध मार्च



बता दें कि गायब होने के बाद से उनका फोन लगातार स्वीच ऑफ आ रहा था। मंगलवार की रात गायब हुए और बुधवार की सुबह 9 बजे तक उनका फोन 5 किलोमीटर दूर एक गांव में स्वीच ऑफ हो गया। पुलिस वहां पहुंची लेकिन कोई क्लू नहीं मिल सका। इसी तरह दो दिन बीत गए, शुक्रवार को कहीं से उनके चचेरे भाई को खबर मिली कि कोई शव पड़ा हुआ है। जिसके बाद उनके परिजन वहां पहुंचे। लेकिन शव बहुत ही बुरी हालत में जला हुआ था। ऊंगली में पहनी अंगूठी से शव की शिनाख्त हो पाई। गर्दन और पैर पर चेन से बांधने का निशान भी पाया गया। युवा पत्रकार अविनाश झा की हत्या से आक्रोशित लोगों ने आज लोहिया चौक बेनीपट्टी में मार्च निकाल रहे हैं। युवा पत्रकार मांगे न्याय की मांग जोर पकड़ने लगी है।

1205 व्यूज1 टिप्पणी

हाल ही के पोस्ट्स

सभी देखें